Gulzar Shayari

50+ Best Gulzar Shayari In Hindi / गुलज़ार साहब की बेस्ट शायरी

गुलज़ार साहब की बेस्ट Gulzar Shayari  हिंदी में 

इतना क्यों सिखाये  जा रही है जिंदगी
हमें कौन सी सदियां गुजारनी है यहां

itana kyon sikhaaye ja rahee hai jindagee
hamen kaun see sadiyaan gujaaranee hai yahaan

 

परेशान है इस बात पर वो
कि उन्हें कोई समझ नहीं पाया
जरा सोच कर देखो
तुमने कितनों को समझ लिया!

pareshaan hai is baat par vo
ki unhen koee samajh nahin paaya
jara soch kar dekho
tumane kitanon ko samajh liya!

 

कौन कहता है कि हम झूठ नहीं बोलते
एक बार खैरियत पूछ कर तो देखो

kaun kahata hai ki ham jhooth nahin bolate
ek baar khairiyat poochh kar to dekho

Guljar Shayari

मेरे मुकद्दर में तो मेरी यादें हैं लेकिन
तू जिस का मुकद्दर है जिंदगी उसे मुबारक

mere mukaddar mein to meree yaaden hain lekin
too jis ka mukaddar hai jindagee use mubaarak

 

कुछ तो बात होगी मोहब्बत में
वरना कोई एक लाश के लिए
ताजमहल नहीं बनवाता

kuchh to baat hogee mohabbat mein
varana koee ek laash ke lie
taajamahal nahin banavaata

Guljar Shayari

गुलज़ार साहब की बेस्ट Gulzar Shayari  हिंदी में 

सुना रहे थे वह अपनी वफादारी के किस्से
हम पर नजर पड़ी तो खामोश हो गए

suna rahe the vah apanee vaphaadaaree ke kisse
ham par najar padee to khaamosh ho gae

 

बड़े सुकून से वो रहते हैं आज कल हमारे बिना
जेसे किसी उलझन से छुटकारा मिल गया हो

bade sukoon se vo rahate hain aaj kal hamaare bina
jese kisee ulajhan se chhutakaara mil gaya ho

 

अब किसी से भी मिलते हैं तो दूरियां बनाकर
ना जाने कौन करीब आकर फिर तन्हा छोड़ जाए

Ab kisee se bhee milate hain to dooriyaan banaakar
Na jaane kaun kareeb aakar phir tanha chhod jae

Guljar Shayari

 

खुदा ने पूछा की क्या सजा दूं उस बेवफा को
हमने भी कह दिया बस उसे मोहब्बत हो जाए किसी बेवफा से

khuda ne poochha kee kya saja doon us bevapha ko
hamane bhee kah diya bas use mohabbat ho jae kisee bevapha se

 

नादान है वो उसे समझाएं कोई
बात ना करने से मोहब्बत कम नहीं होती

Naadaan hai vo use samajhaen koee
Baat na karane se mohabbat kam nahin hotee

Guljar Shayari

जिन्हें नींद नहीं आती उन्हीं को मालूम है
कि सुबह होने में कितने जमाने लगते हैं

Jinhen neend nahin aatee unheen ko maaloom hai
Ki subah hone mein kitane jamaane lagate hain

गुलज़ार साहब की बेस्ट Gulzar Shayari  हिंदी में 

डालकर आदत बेपनाह मोहब्बत की
अब वह कहते हैं समझा करो वक्त नहीं है

Daalakar aadat bepanaah mohabbat kee
Ab vah kahate hain samajha karo vakt nahin hai

 

दिल की उम्मीद का हौसला तो देखो
इंतजार उसका है जिसे एहसास भी नहीं

Dil kee ummeed ka hausala to dekho
Intajaar usaka hai jise ehasaas bhee nahin

Guljar Shayari

 

मोहब्बत से लेकर उसके अलविदा कहने तक
मैंने सिर्फ चाहा और उससे कुछ नहीं चाहा

Mohabbat se lekar usake alavida kahane tak
Mainne sirph chaaha aur usase kuchh nahin chaaha

 

निकाल दी फिर उम्र हमने सब से माफी मांगते मांगते
किसी एक छोटी सी गलती पर हमें छोड़ गया था वो

Nikaal dee phir umr hamane sab se maaphee maangate maangate
Kisee ek chhotee see galatee par hamen chhod gaya tha vo

 

मोहब्बत से फुर्सत नहीं मिली वरना
करके बताते नफरत किसे कहते हैं

Mohabbat se phursat nahin milee varana
Karake bataate napharat kise kahate hain

Guljar Shayari

Post Author: Apna Quots

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *