Best Gulzar Shayari In Hindi

Gulzar Shayari In Hindi | Guljar Shayari | Dard Bhari Gulzar Shayari

Best Gulzar Shayari Hindi में पढिये, Gulzar जी की  लिखी Shayari पड़ने के बाद तो हर कोई उनका दीवाना हो जाता है| एक बार आप भी पड़ कर देखिये| Motivation, Inspiration, प्यार, दर्द, तड़प, सब है Gulzar जी की Shayari में 


दोनों ही मजबूर थे अपने-अपने दायरे में
एक मोहब्बत कर ना सका और एक मोहब्बत भुला ना सका

dono hee majaboor the apane-apane daayare mein
ek mohabbat kar na saka aur ek mohabbat bhula na saka

Gulzar Shayari In Hindi | Guljar Shayari | Dard Bhari Gulzar Shayari


तुम पानी से होकर शक्ल में ढल जाते हो
मे रेत हूं मुझसे कच्चे घर भी नहीं बनते

Tum pani se hokar shakl mein dhal jaate ho
Me ret hoon mujhase kachche ghar bhee nahin banate


मोमबत्ती की तरह है कुछ मेरी जिंदगी
रोशनी है लेकिन पिघल रही है

Mombatti ki tarah hai kuchh meri jindagi
Roshani hai lekin pighal rahi hai


दोनों ही बातों से एतराज है मुझे
जिंदगी में तुम आए क्यों और फिर चले क्यों गए

Dono hi baaton se etaraaj hai mujhe
Zindagi mein tum aaye kyon aur phir chale kyon gaye


तुम्हें चाहने वाला जब अपनी मजबूरियां गिनाने लगे तो 
समझ लेना की तुम्हारा और उसका रिश्ता खत्म होने वाला है

Tumhen chaahne vala jab apani majabooriyan ginane lage to
Samajh lena ki tumhara aur uska rishta khatm hone vala hai

Gulzar Shayari In Hindi | Guljar Shayari | Dard Bhari Gulzar Shayari

 

Best Gulzar Shayari In Hindi


गूम अगर सुई भी हो जाए तो दिल दुखता है
और हमने तो मोहब्बत में तुम्हें खोया है

Goom agar sui bhi ho jaye to dil dukhta hai
Aur hamne to mohabbat mein tumhen khoya hai


शहर में मजदूर जैसा दर-ब-दर कोई नहीं
जिसने सबके घर बनाए उसका कोई घर नहीं

Shahar mein majadoor jaisa dar-ba-dar koi nahi
Jisne sabke ghar banaye uska koi ghar nahi


कोई अपना हो तो आईने जैसा हो
जो हंसे भी साथ और रोये भी साथ

Koi apna ho to aayene jaisa ho
Jo hanse bhi sath aur roye bhi sath


मेरे पास मौसम की कोई जानकारी नहीं
मगर इतना जानता हूं यादें तूफान लाती है

Mere pas mausam ki koi jankari nahi
Magar itana janta hoon yaaden toofan lati hai

Gulzar Shayari In Hindi | Guljar Shayari | Dard Bhari Gulzar Shayari


बेहतर दिनों की आस में जीते हुए
हम बेहतर दिन भी गवाते चले जाते हैं

Behatar dinon ki aas mein jite huye
Ham behatar din bhi gavate chale jate hain


अब इतना भी सादगी का जमाना नहीं रहा
कोई वक्त गुजरता जाए और हम प्यार समझे

Ab itana bhee saadagee ka jamaana nahin raha
Koi waqt gujarta jaye aur ham pyaar samjhe

 

Best Gulzar Shayari In Hindi


पसंद आ जाते हैं कुछ लोगों का हम
मगर लोगों को यह बातें पसंद नहीं आती

Pasand aa jaate hain kuchh logo ka ham
Magar logo ko yah baten pasand nahi aati


बेशक तुम्हारे फोन की कोई उम्मीद नहीं लेकिन
पता नहीं क्या सोचकर हम आज भी नंबर नहीं बदलते

Beshak tumhare phon ki koi ummid nahi lekin
Pata nahi kya sochkar ham aaj bhi Numbar nahi badalte

Gulzar Shayari In Hindi | Guljar Shayari | Dard Bhari Gulzar Shayari


हर रात यह सोचकर दरवाजा खुला रखता हूं
शायद कोई लुटेरा मेरा गम भी लूट ले

Har raat yah sochkar daravaaja khulla rakhta hoon
Shayad koi lutera mera gam bhi loot le jaye


किसी को टूट कर चाहा और ख्वाहिश अधूरी रह जाए
तो यह सोचकर सब्र कर लेना कि वह किसी और की अमानत थी

kisi ko toot kar chaha aur khvahish adhoori rah jaye
to yah sochkar sabr kar lena ki vah kisi aur ki amanat thi


कभी भी किसी से इतनी उम्मीद मत रखना
की उम्मीदों के साथ खुद भी टूट जाओ

Kabhi  bhi kisi se itani ummeed mat rakhna
ki ummeedon ke sath khud bhi toot jao

 

Best Gulzar Shayari In Hindi


वक्त आने पर करा देंगे हाथों का एहसास
कुछ तालाब खुद को समंदर समझ बैठे हैं

Waqt aane par kara denge haathon ka ehsaas
kuchh talab khud ko samandar samajh baithe hain

Gulzar Shayari In Hindi | Guljar Shayari | Dard Bhari Gulzar Shayari


लकड़ी के मकानों में चिरागों को मत रखना
अपने भी यहां आग बुझाने नहीं आते

Lakdi ke makano mein chirago ko mat rakhna
apane bhi yahan aag bujhane nahin aate


अगर कोई तुम्हें भूल जाए तो यह सोच कर उसे भुला देना
की ऐसे लोगों के सहारे कभी जिंदगी नहीं गुजरती

Agar koi tumhen bhool jaye to yah soch kar use bhula dena
ki aise logon ke sahare kabh Zindagi nahin gujarati


कुछ इस तरह से गुजारी है जिंदगी जैसे
तमाम उम्र किसी दूसरे के घर में रहे

Kuchh is tarah se gujari hai Zindagi jaise
tamam umra kisi dusre ke ghar mein rahe


गलत इंसान पर भरोसा करने के बाद ही
सही इंसान को पहचानने की समझ आती है

Galat insaan par bharosa karne ke baad hi
Sahi insaan ko pahchanane ki samajh aati hai

Gulzar Shayari In Hindi | Guljar Shayari | Dard Bhari Gulzar Shayari

Post Author: Apna Quots

1 thought on “Gulzar Shayari In Hindi | Guljar Shayari | Dard Bhari Gulzar Shayari

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *